ALL अंतरराष्ट्रीय राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश अन्य राज्य बिजनेस खेल सिनेमा रोजगार धर्म मेट्रोमोनियल
योगी आदित्यनाथ ने दीपावली गोरखपुर के वनटांगिया ग्राम में मनाई तथा 66 लाख की परियोजनाओं का शिलान्यास व लोकार्पण भी किया 
November 14, 2020 • AMIT VERMA • उत्तर प्रदेश


वेब वार्ता (न्यूज़ एजेंसी)/अजय कुमार वर्मा
 लखनऊ 14 नवंबर। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रत्येक वर्ष की भांति इस साल भी दीपावली गोरखपुर के वनटांगिया ग्राम में मनाई। मुख्यमंत्री ने आज दीपावली के अवसर पर जनपद गोरखपुर की ग्राम पंचायत तिकोनिया नम्बर-3 में वनटांगिया ग्राम के विकास हेतु लगभग 66 लाख की कुल ०९ परियोजनाओं का शिलान्यास एवं लोकार्पण किया। मुख्यमंत्री द्वारा 04 परियोजनाओं का शिलान्यास तथा 05 परियोजनाओं का लोकार्पण किया गया। इसके अतिरिक्त, उन्होंने प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) के 10 लाभार्थियों को स्वीकृति प्रमाण पत्र, पुष्टाहार योजना के 10 लाभार्थियों को ड्राई राशन किट एवं बेसिक शिक्षा विभाग के अन्तर्गत प्राथमिक विद्यालय के 10 विद्यार्थियों को स्वेटर एवं डेªस का वितरण किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री जी ने वहां लगाये गये विभिन्न उत्पादों की प्रदर्शनी/स्टाॅलों का अवलोकन किया। उन्होंने बच्चों को अन्नप्राशन भी कराया तथा गांव में भ्रमण कर लोगों से वार्ता की।
मुख्यमंत्री जी ने सभी को दीपावली की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि पर्व एवं त्योहार में समाज के जब सभी तबके जुड़ते है तो उत्साह कई गुना बढ़ जाता है। उन्होंने कहा कि जनपद गोरखपुर के चयनित 05 वनटांगिया बस्ती को राजस्व ग्राम का दर्जा दिया गया है। उन्होंने कहा कि आजादी के 70 साल से बुनियादी सुविधाओं से वंचित वनटांगियां गांवों में वर्तमान सरकार द्वारा पक्का मकान, शौचालय, पेंशन, मालिकाना हक, हैण्डपम्प, सड़क, बिजली आदि सुविधाएं उपलब्ध करायी गयी हंै।
      मुख्यमंत्री ने कहा कि गरीब के चेहरे पर खुशहाली लाना तथा उन्हें शासकीय योजनाओं से लाभ पहुंचाना ही सबसे अच्छा दीवाली का उपहार है। योजनाओं का लाभ जरूरतमंदों तक पहुंच सके, इस दिशा में शासन-प्रशासन तो निरन्तर कार्य कर रहा है लेकिन आमजन को भी शासकीय योजनाओं के प्रति जागरूक होना आवश्यक है। उन्होंने कहा कि समाज में कोई भी पात्र व्यक्ति योजना से लाभान्वित होने से वंचित न हो इस दिशा में बिना भेदभाव केन्द्र तथा प्रदेश सरकार द्वारा कार्य किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि सरकार ‘सबका साथ, सबका विकास’ के भाव से कार्य कर रही है।
       मुख्यमंत्री ने कहा कि 02 अक्टूबर, 2014 से प्रारम्भ स्वच्छ भारत मिशन के तहत प्रदेश के अन्दर 02 करोड़ 61 लाख गरीब परिवारों को शौचालय देने का कार्य एक मिशन मोड के तहत किया गया है। इसी का परिणाम है कि इंसेफेलाइटिस बीमारी पर नियंत्रण पाया गया है। जहां वर्ष 1977 से प्रतिवर्ष 500 से 1,500 तक बच्चों की इंसेफेलाइटिस से मृत्यु हो जाती थी अथवा वे दिव्यांग हो जाते थे, वहीं प्रदेश में वर्तमान सरकार बनने के उपरान्त इंसेफेलाइटिस की समस्या के निदान के लिए लगातार कार्य किया गया। इसके परिणाम स्वरूप इस वर्ष मात्र 21 मृत्यु हुई। मृत्यु को शून्य करने के लिए लगातार कार्य किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि हर एक को जीने का अधिकार है।
      मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री ने आह्वान किया है कि कोरोना से बचाव हेतु ‘दो गज की दूरी और मास्क है जरूरी’ का अक्षरशः पालन किया जाए तथा सैनिकों के नाम दीपावली पर एक दीप जरूर जलायें। दीप मिट्टी का बना होना चाहिए। सात्विक भाव के साथ संकल्प लेकर जब हम आगे बढ़ते हैं तो परिणाम बेहतर होता है। उन्होंने कहा कि आत्मनिर्भर भारत की परिकल्पना को साकार करना है। जब एक व्यक्ति आत्मनिर्भर होगा तो परिवार, समाज, प्रदेश और देश आत्मनिर्भर होगा। उन्होंने वन्य गांव से जुड़े लोगों से कहा कि वे भी स्थानीय स्तर पर कोई विशिष्ट उत्पाद तैयार करें। उन्होंने कहा कि ऐसे उत्पादों को प्रमुखता के साथ खरीदा जाएगा।
     इस अवसर पर स्वागत भाषण विधायक, गोरखपुर ग्रामीण, विपिन सिंह ने दिया तथा धन्यवाद ज्ञापन विधायक, पिपराइच, महेन्द्रपाल सिंह द्वारा किया गया। कार्यक्रम में सांसद जगदम्बिका पाल, विधायक शीतल पाण्डेय, संगीता यादव एवं वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।