ALL अंतरराष्ट्रीय राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश अन्य राज्य बिजनेस खेल सिनेमा रोजगार धर्म मेट्रोमोनियल
उ0प्र0 आदर्श व्यापार मंडल ने प्रधानमंत्री द्वारा लॉक डाउन की अवधि बढ़ाने का समर्थन किया
April 14, 2020 • AMIT VERMA • उत्तर प्रदेश

वेबवार्ता(न्यूज़ एजेंसी)/अजय कुमार वर्मा
लखनऊ 15 अप्रैल। उत्तर प्रदेश आदर्श व्यापार मंडल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा लॉक डाउन की अवधि को बढा कर 3 मई तक किए जाने के 
निणॅय का स्वागत किया है। 
      उत्तर प्रदेश आदर्श व्यापार मंडल के अध्यक्ष संजय गुप्ता ने कहा कि देश एवं देश के नागरिकों को सुरक्षित रखने का यही एक मात्र विकल्प था। उन्होंने देश की वित्त मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण एवं प्रधानमंत्री से देश के व्यापारियों को भी राहत देने की मांग की है। उन्होंने देश की वित्त मंत्री एवं प्रधानमंत्री से देश के व्यापारियों को भी वैश्विक आपदा की इस घड़ी में राहत देने की मांग करते हुए कहा वर्तमान में व्यापारियों का व्यापार बिल्कुल चौपट हो गया है तथा आगे भी कई माह तक व्यापारियों के लिए चुनौती भरे दिन होंगे। उन्होंने कहा कि आरबीआई के गवर्नर द्वारा बैंकों को जो एडवाइजरी जारी की गई है उसको बैंक अपने अपने तरीके से लागू कर रहे हैं तथा व्यापारियों को उचित लाभ नहीं दे रहे हैं। उन्होंने वित्त मंत्री से व्यापारियों एवं उद्योगों के सभी प्रकार के लोन खातों के ब्याज को तीन माह के लिए पूरी तरह से माफ किए जाने के स्पष्ट आदेश देने की मांग की तथा राज्य सरकारों को व्यापारियों एवं उद्योगों के कमर्शियल विद्युत कनेक्शन के फिक्स चार्ज को समाप्त करने के लिए विद्युत नियामक आयोग में सरकार की ओर  से पक्ष रखते हुए तीन माह के लिए समाप्त  करवाने के आदेश देने की मांग की।
    श्री गुप्ता ने आपदा के इस मौके पर आपूर्ति में मुख्य भूमिका निभाने वाले किराना व्यापारियों को भी 50 लाख के बीमा से कवर करने की मांग की। उन्होंने कहा कि व्यापारियों के सामने इस समय दुकान और गोदाम के किराया भुगतान और कर्मचारियों की तनखा देने का संकट बहुत बड़ा आया हुआ है। व्यापार पूरी तरह बंद है। ऐसे में व्यापारी के पास पैसा नहीं है। आमदनी भी नहीं है। सरकार को किराए और तनख्वा के लिए कोई रोड मैप बनाना होगा। उन्होंने कहा जिस तरह से सरकार ने अपने सांसदों और विधायकों की तनखा मे 30% कटौती की है इसी प्रकार से किराया और  दुकानों के कर्मचारियों की तनख्वाह हेतू भी 50% कटौती का देश में रोड मैप बना दें। इससे जिन लोगों की रोजी रोटी किराये की आमदनी पर निर्भर है उनके साथ कर्मचारियों का भी काम चल जाएगा और व्यापारियों की भी कुछ राहत हो जाएगी।