ALL अंतरराष्ट्रीय राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश अन्य राज्य बिजनेस खेल सिनेमा रोजगार धर्म मेट्रोमोनियल
समाजवादी पार्टी के विधायकगण महोबा में किसानों द्वारा आत्महत्या की जानकारी लेंगे 
February 28, 2020 • AMIT VERMA • उत्तर प्रदेश

वेबवार्ता(न्यूज़ एजेंसी)/अजय कुमार वर्मा 
लखनऊ 28 फरवरी।  समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव के निर्देशानुसार कल 29 फरवरी 2020 को समाजवादी पार्टी के विधायकगण जनपद महोबा के लिए रवाना होगे। ये विधायक महोबा के कबरई, पनवाड़ी, चरखारी और जैतपुर विकासखंडो में जाएगें जहां 66 किसानों ने आत्महत्या की है। 
       समाजवादी पार्टी ने प्रभारी विधायक भेजकर महोबा के 4 विकासखंडो में किसानो के मौत की तथ्यात्मक जानकारी हासिल की थी। प्राप्त सूचना के अनुसार भाजपा सरकार के कार्यकाल में विकासखंड पनवाड़ी में 13, विकासखंड जैतपुर में 16, विकासखंड चरखारी में 14 और विकासखंड कबरई में 23 किसानों ने आत्महत्या की है।
   अखिलेश यादव ने महोबा के कबरई विकासखंड में किसानों की मृृत्यु की जांच के लिए सर्वश्री नरेन्द्र वर्मा, राजकुमार ‘राजू‘, बृृजेश कठेरिया (सभी एमएलए) तथा डा0 राजपाल कश्यप, हीरालाल यादव (एमएलसी) को निर्देशित किया है। पनवाड़ी विकासखंड में अमिताभ बाजपेयी, इरफान सोलंकी एवं संग्राम सिंह सभी (एमएलए) जाकर किसानों की मौत के कारणों की जांच करेंगे।
 चरखारी विकासखंड के लिए समाजवादी पार्टी के शशांक यादव, उदयवीर सिंह, सुनील सिंह ‘साजन‘ (सभी एमएलसी) को नामित किया है। जैतपुर विकासखंड में किसानों की मौत के मामले की जांच हेतु आनंद भदौरिया, संतोष यादव ‘सनी‘, राजेश यादव ‘राजू‘ तथा दिलीप उर्फ कल्लू यादव सभी (एमएलसी) जाएगें।
     29 फरवरी 2020 को समाजवादी पार्टी के सभी विधायकगण पीड़ित किसानों के परिजनों से मिलकर उनकी मृृत्यु के कारणों तथा पारिवारिक स्थिति की जानकारी करेंगे। इसके अतिरिक्त ये विधायक श्री अखिलेश यादव जी का संदेश भी उन तक पहंुचायेंगे।
     भाजपा सरकार लगातार किसानों को फसल की लागत का डयोढ़ा मूल्य देने, गन्ना किसानों के बकाया के साथ ब्याज अदा करने, किसानो की आय दुगुनी करने के लुभावने वादे करती रही है। किसान को मंहगाई की चोट भी मिली। इस सबसे परेशानी और बदहाली में किसान को आत्महत्या करने को मजबूर होना पड़ा है। जब अखिलेश यादव के मुख्यमंत्रित्व में समाजवादी सरकार थी तब किसानों को मुफ्त सिंचाई सुविधा मिली थी। कर्जमाफी और फसल बीमा का लाभ मिला था। महोबा में किसानों को राहत पैकेज में खाद्य सामग्री दी गई थी और पेयजल पहुँचाया गया था।