ALL अंतरराष्ट्रीय राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश अन्य राज्य बिजनेस खेल सिनेमा रोजगार धर्म मेट्रोमोनियल
सैकड़ों बेकसूर मजदूरों की अकाल मृत्यु के पश्चात मुख्यमंत्री को मजदूरों को बसों द्वारा घर पहुँचाने की याद आई - सुरेन्द्र नाथ त्रिवेदी
May 17, 2020 • AMIT VERMA • उत्तर प्रदेश

वेबवार्ता(न्यूज़ एजेंसी)/अजय कुमार वर्मा
लखनऊ 17 मई। राष्ट्रीय लोकदल के प्रदेश प्रवक्ता सुरेन्द्र नाथ त्रिवेदी ने भाजपा सरकार की अचानक पैदा हुई सक्रियता पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि सैकड़ों बेकसूर और मजबूर मजदूरों की अकाल मृत्यु के पश्चात मुख्यमंत्री को प्रत्येक मजदूर को तुरन्त ही बसों के द्वारा घर तक पहुँचाने का फरमान जारी करने की याद आई और तत्काल चारों ओर बसें लगा दी गई।विभिन्न प्रदेशों के असहाय लाखों मजदूरों ने  प्रधानमंत्री के लाक डाउन का एक महीने तक तन मन से ताली थाली बजाने से लेकर मोमबत्ती जलाने और पुष्प वर्षा करने तक सहर्ष पालन किया परन्तु वेतन के सम्बन्ध में उद्योगपतियों द्वारा धोखा मिलने पर ये मजदूर टूट गए और अपने घरों को जाने की माँग करने लगे।उनकी इस भूख से भरी हुई माँग पर केन्द्र और प्रदेश सरकारों ने हठधर्मिता का परिचय दिया।    
.        श्री त्रिवेदी ने कहा कि भाजपा अपनी कुम्भकर्णी नींद के लिए जानी जाती है जिसने कभी भी जन भावनाओं का सम्मान नहीं किया।चाहे उसके विधायकों पर दबंगई से लेकर बलात्कार के आरोप रहे हों अथवा गरीबों पर अत्याचार । अब पन्द्रह दिन से सड़कों पर असहाय भूखे और दुःखी मजदूरों का मेला लगातार मीडिया द्वारा दिखाया जा रहा है परन्तु संवेदनहीन सरकार ने सैकड़ों मजदूरों की मृत्यु के बाद अपनी तत्परता दिखा रही है। 
          रालोद प्रदेश प्रवक्ता ने कहा कि देश के सभी लगभग 40 हजार मजदूरों ने लाइनों में घण्टों खडे़ रहकर वोट देकर भाजपा को सत्तारूढ़ किया था परन्तु सरकार ने अपनी पूँजीवादी सोच और उद्योगपतियों की पोषक नीति के कारण इन गरीबों को सदैव लाइन में ही खडा़ किया है वह चाहे नोट बन्दी रही हो या इस महामारी के समय भूख से व्याकुल अपने घरों की ओर पलायन हो।उन्होंने बताया कि आज भी मुख्यमंत्री के तानाशाही से पूर्ण सीमा सील करनेवाले आदेश पर ही झांसी बार्डर पर पुलिस द्वारा निहत्थे और भूखे मजदूरों पर लाठीचार्ज किया गया जो निन्दनीय है।निश्चित ही आज ये सभी मजदूर और कामगार अपने मसीहा चौ.चरण सिंह की याद कर रहे होंगे।