ALL अंतरराष्ट्रीय राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश अन्य राज्य बिजनेस खेल सिनेमा रोजगार धर्म मेट्रोमोनियल
सचिवालय परिसर में कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए विशेष सतर्कता के आदेश जारी
March 21, 2020 • AMIT VERMA • उत्तर प्रदेश

- सप्ताहिक रोस्टर बनाकर सचिवालय परिसर में 50% कार्मिकों की ही उपस्तिथि सुनिनिश्चित की जाए।

- तीन पालियों में लगाई जाए सचिवालय कार्मिकों  की ड्यूटी। 

- घर से काम कर रहे कार्मिक मोबाइल एवं इलेक्ट्रानिक माध्यमों से कार्यालयों के संपर्क में रहेंगें- अपर मुख्य सचिव सचिवालय प्रशासन महेश गुप्ता
वेबवार्ता(न्यूज़ एजेंसी)/अजय कुमार वर्मा
लखनऊ। अपर मुख्य सचिव सचिवालय प्रशासन महेश गुप्ता ने सचिवालय परिसर में कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए  सचिवालय के समस्त अनुभागों ,प्रकोष्ठों एवं कार्यालयों के'ख' ,'ग' और 'घ' श्रेणी के कार्मिकों की उपस्तिथि 50% सुनिनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने अपने आदेश में कहा है कि समस्त अनुभागों एवं कार्यालयों के प्रभारी अधिकारी इस प्रकार की व्यवस्था करेंगें कि प्रत्येक दिन कार्यालयों के समूह 'ख' ,'ग' और ''घ' श्रेणी के कार्मिकों की 50% उपस्तिथि सुनिनिश्चित हो तथा शेष  50%  कार्मिक घर से ही कार्य सम्पादित करें। उन्होंने निर्देश दिया है की इसके लिए साप्ताहिक रोस्टर बना लिया जाए की ऐसे कर्मी अल्टरनेट सप्ताह में कार्यालय आएं।
            अपर मुख्य सचिव ने  स्पष्ट किया है की प्रथम सप्ताह कार्यालय आने वाले कार्मिकों का चिन्हीकरण करते समय उनके घर की दूरी और आने के लिए प्रयोग किये जाने वाले स्वयं के साधनों का भी ध्यान रखा जाए। अपर मुख्य सचिव ने कार्मिकों की ड्यूटी भी तीन पालियों में लगाने का भी  निर्देश दिया है ,जिसके लिए प्रातः 9 :00  से सायं 5 :00 तक,  प्रातः 10 :00  से सायं 6 :00 तक तथा  प्रातः 11 :00  से सायं 7 :00 बजे तक की शिफ्ट बनाने को कहा गया है। 
              अपर मुख्य सचिव ने रोस्टर के अनुसार घर से काम कर रहे कार्मिकों को  मोबाइल एवं इलेक्ट्रानिक माध्यमों से कार्यालयों के संपर्क में रहने का निर्देश दिया है जिससे आवश्यकता पड़ने पर उन्हें कार्यालय बुलाया जा सके। उन्होंने आदेश में यह भी स्पष्ट किया है कि  कार्मिक कोविड -19 की रोकथाम में प्रत्यक्ष भूमिका अदा कर रहे कार्मिकों पर ये निर्देश लागू नहीं होंगे। अन्य सभी कार्मिकों के लिए ये आदेश कड़ाई से लागू किये जाएंगे। -  डॉ सीमा गुप्ता