ALL अंतरराष्ट्रीय राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश अन्य राज्य बिजनेस खेल सिनेमा रोजगार धर्म मेट्रोमोनियल
रेल और सड़क हादसे में मजदूर उद्योगपतियों की संवेदनहीनता और सरकारों की अनदेखी के शिकार हुए - सुरेन्द्र नाथ त्रिवेदी
May 15, 2020 • AMIT VERMA • उत्तर प्रदेश

वेबवार्ता(न्यूज़ एजेंसी)/अजय कुमार वर्मा
लखनऊ 15 मई। लखनऊ ।राष्ट्रीय लोकदल के प्रदेश प्रवक्ता सुरेन्द्र नाथ त्रिवेदी ने उत्तर प्रदेश सहित विभिन्न प्रदेशों में असहाय मजदूरों पर हो रहे हादसों पर संवेदना प्रकट करते हुए कहा है कि विगत सप्ताह में 16 मजदूरों की रेल हादसे में हुई दर्दनाक मृत्यु ने आम जनमानस को झकझोर कर रख दिया था और अब सड़क हादसों में भी 16 से अधिक लोग अकाल मृत्यु के गाल में समा गए।रेल हादसे को दुर्घटना कहा जा सकता है परन्तु मुजफ्फरनगर - सहारनपुर मार्ग पर रोडवेज की बस द्वारा पैदल चलने वाले मजदूरों को कुचलना तथा मध्य प्रदेश के गुना में बस और ट्रक की भिड़न्त के फलस्वरूप हुई मौतों को मानवीय लापरवाही ही कहा जायेगा।इन हादसों में मरने वालों के अतिरिक्त लगभग 100 लोग घायल भी हुए हैं।
      श्री त्रिवेदी ने कहा कि ये मजदूर उद्योगपतियों की संवेदनहीनता और सरकारों की अनदेखी के शिकार हुए हैं और अब स्थानीय प्रशासन की घोर लापरवाही ने इनके जीवन के साथ क्रूर मजाक किया है। उत्तर प्रदेश सरकार ने मृतक व्यक्ति के लिए दो लाख रु. मुआवजा देने की घोषणा की है जो नाकाफी है।अन्य सम्बन्धित प्रदेशों की सरकारों को भी अब संवेदनशीलता का परिचय देते हुए तत्काल मृतकों और घायलों के लिए मुआवजे की घोषणा करनी चाहिए।
       रालोद प्रदेश प्रवक्ता ने माँग करते हुए कहा कि प्रदेश सरकारों द्वारा मृतकों को पाँच लाख तथा केन्द्र सरकार द्वारा  10 लाख रुपए की मुआवजा धनराशि की घोषणा होनी चाहिए।इसके साथ साथ किसी स्थानीय उच्च अधिकारी द्वारा जाँच कराकर दोषियों को दण्डित करना चाहिए ताकि इस तरह की लापरवाही पर लगाम लग सके।