ALL अंतरराष्ट्रीय राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश अन्य राज्य बिजनेस खेल सिनेमा रोजगार धर्म मेट्रोमोनियल
पत्रकारों को भी मिले कोरोना वारियर्स का दर्जा, लिखा पी०यम० को पत्र : रामगोविंद चौधरी
April 28, 2020 • AMIT VERMA • उत्तर प्रदेश

वेबवार्ता(न्यूज़ एजेंसी)/अजय कुमार वर्मा
लखनऊ 28 अप्रैल। विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष समाजवादी पार्टी के रामगोविंद चौधरी ने पत्रकारों की गंभीर समस्याओं का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भावुक  पत्र लिखा है। उन्होंने पत्रकारों को कोरोना वारियर्स का दर्जा देने 50 लाख का बीमा कवर और दायित्व निर्वहन के दौरान निधन होने पर परिजनों को 25 लाख की विशेष आर्थिक मदद देने की मांग की है। उन्होंने पत्र में कहा है कि लोकतंत्र में मीडिया को चतुर्थ स्तंभ माना जाता है । विधायिका, कार्यपालिका और न्यायपालिका को पेंशन की सुविधा है लेकिन इस चौथे स्तंभ में कार्यरत पत्रकारों को पेंशन की सुविधा नहीं है उन्हें भी पेंशन की सुविधा से आच्छादित करने का निर्णय लिया जाए।
नेता प्रतिपक्ष श्री चौधरी ने अपने पत्र में कहा है कि देश मे या देश पर कोई भी संकट हो पत्रकार अगले मोर्चे पर जूझता है जनता की खबर सरकार तक और सरकार की खबर जनता तक पहुचाता है। दायित्वों से भटकने वालों की खबर भी लेता है। इसलिए वह बहुतों को खटकता भी है। इससे उन्हें कई बार इसकी बड़ी कीमत भी चुकानी पड़ती है और लोकतंत्र में इसी उपयोगिता को देखते हुए मीडिया को लोकतंत्र का चौथा स्तंभ भी कहा जाता है। उन्होंने पत्र में उल्लेख किया है कि कोरोना के इस दुष्काल में पत्रकार अग्रिम मोर्चे पर जूझ रहा है। राजधानी, महानगरो, नगरों तक ही नहीं कस्बा, चट्टी और गांव में एक अदद कलम एक अदद मोबाईल, और एक कैमरे के भरोसे हर मोर्चे पर डटा दिखाई देता है। पत्रकारों की व्यथा का उल्लेख करते हुए कहा कि इनमें से बहुतों को वेतन नहीं पुरूस्कार और कमीशन के रूप में जीवकोपार्जन के लिए रुपया मिलता है। उन्होंने कहा कि इसमे बहुत बड़ी संख्या में पत्रकारों को वेजबोर्ड का लाभ नहीं मिलता अपितु प्रबंधन की कृपा पर भुगतान पाते हैं।
       उन्होंने कहा कि कोरोना की इस महामारी से निपटने में स्वास्थ्य कर्मियों, निकाय कर्मियों और पुलिस बलो को वारियर्स का दर्जा दिया गया है। उसी तरह पत्रकारों को भी वारियर्स का दर्जा दिया जाय और उन्हें भी 50 लाख का बीमा कवर और अन्य सुविधायें दी जायें। उन्होंने कहा कि पत्रकारों को सेनेटाइजेशन की सुविधा के लिए विधायक निधि की गाइडलाइन में संसोधन किया जाये।