ALL अंतरराष्ट्रीय राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश अन्य राज्य बिजनेस खेल सिनेमा रोजगार धर्म मेट्रोमोनियल
मुख्यमंत्री ने कहा कि मेडिकल काॅलेजों की व्यवस्थाओं को चुस्त-दुरुस्त बनाए रखा जाए - अवनीश अवस्थी
July 4, 2020 • AMIT VERMA • उत्तर प्रदेश

वेबवार्ता (न्यूज़ एजेंसी)/ अजय कुमार वर्मा 
लखनऊ 4 जुलाई। उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव गृह एवं सूचना अवनीश कुमार अवस्थी ने आज यहां लोक भवन में प्रेस प्रतिनिधियों को सम्बोधित करते हुए बताया कि मुख्यमंत्री ने स्वास्थ्य विभाग तथा चिकित्सा शिक्षा विभाग को जनपद गौतमबुद्ध नगर तथा गाजियाबाद के लिए विशेष कार्य योजना तैयार करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा है कि जनपद गौतमबुद्धनगर तथा गाजियाबाद में संक्रमण को नियंत्रित करने तथा उपचार व्यवस्था को बेहतर बनाने के लिए और अधिक प्रयास किए जाने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि इन जनपदों में एल-1, एल-2 तथा एल-3 चिकित्सा सेवाओं को सुदृढ़ किया जाय। उन्होंने कहा है कि जनपद गाजियाबाद में स्वास्थ्य विभाग की विशेष टीम भेजी जाए, जो वहां कैम्प करे। यह टीम कोविड अस्पतालों की व्यवस्थाओं को बेहतर करते हुए संक्रमित रोगियों के स्वास्थ्य लाभ के सभी उपाय सुनिश्चित करें। उन्होंने जनपद बुलन्दशहर में भी इसी प्रकार स्वास्थ्य विभाग की विशेष टीम को भेजे जाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री ने कहा है कि सरकारी अस्पतालों के अलावा निजी चिकित्सालयों में भी ट्रूनैट मशीन क्रियाशील रखने हेतु स्पष्ट दिशा निर्देश जारी किये जाय। आर0टी0पी0सी0आर0, ट्रूनैट मशीन तथा रैपिड एन्टीजन टेस्ट को अपनाते हुए जांच क्षमता को बढ़ाकर 30 हजार टेस्ट प्रतिदिन किए जाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने बताया कि निजी चिकित्सालयों में ट्रूनैट मशीन की स्थापना हेतु आई0सी0एम0आर0 द्वारा स्वीकृति प्रदान कर दी गयी है।  
       श्री अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री ने कहा है कि मेडिकल काॅलेजों की व्यवस्थाओं को चुस्त-दुरुस्त बनाए रखा जाए। यह सुनिश्चित किया जाए कि वरिष्ठ चिकित्सक नियमित राउण्ड लें। उन्होंने मेडिकल काॅलेजों की स्वास्थ्य सेवाओं की माॅनिटरिंग के लिए अलग से अधिकारी को नामित किए जाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा है कि नोडल अधिकारी के तौर पर जनपदों में भेजे गए विशेष सचिव स्तर के अधिकारी कोविड चिकित्सालयों का नियमित निरीक्षण तथा निरन्तर माॅनिटरिंग करते रहें। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए हैं कि कोविड अस्पतालों में भर्ती रोगी के परिजनों को, रोगी के स्वास्थ्य की नियमित रूप से जानकारी उपलब्ध कराई जाए। इसके लिए वाॅर्ड इंचार्ज द्वारा मरीज के तीमारदार को रोगी के स्वास्थ्य की जानकारी टेलीफोन के माध्यम से प्रदान करने की व्यवस्था की जाए। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग के प्रत्येक चिकित्सालय में कोविड हेल्प डेस्क की स्थापना के निर्देश दिए हैं। 
        श्री अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री ने कहा है कि अन्तर्राष्ट्रीय उड़ानों से प्रदेश में आने वाले यात्रियों की समुचित स्क्रीनिंग एवं 07 दिन का इन्स्टीट्यूशनल क्वारंटीन व होम क्वारंटीन की व्यवस्था सुचारु बनाई रखी जाए। रेलवे स्टेशन तथा बस स्टेशन पर यात्रियों की नियमित स्क्रीनिंग की जाए। मुख्यमंत्री जी ने संक्रमण के प्रसार को नियंत्रित करने के लिए हर सम्भव सावधानी बरतने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा है कि मेडिकल संक्रमण से चिकित्साकर्मियों को सुरक्षित रखने के लिए इनके ट्रेनिंग कार्यक्रम पर निरन्तर ध्यान दिया जाए। पी0ए0सी0 वाहिनियों में संक्रमण के प्रसार को नियंत्रित करने के लिए प्रभावी प्रयास जारी रखे जाएं तथा वहां पर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया जाय। मुख्यमंत्री जी ने सभी सार्वजनिक स्थानों पर साफ-सफाई के बेहतर प्रबन्ध के साथ-साथ सोशल डिस्टेंसिंग का कड़ाई से पालन सुनिश्चित कराने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा है कि कन्टेनमेंट जोन में डोर स्टेप डिलीवरी व्यवस्था का सुचारु संचालन सुनिश्चित किया जाए, ताकि लोगों को आवश्यक सामग्री की उपलब्धता के सम्बन्ध में कोई असुविधा न हो।
        श्री अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री ने कहा है कि प्रदेश में विशेष संचारी रोग नियंत्रण अभियान संचालित किया जा रहा है। समस्त सम्बन्धित विभाग समन्वय बनाकर अभियान की गतिविधियों को प्रभावी ढंग से क्रियान्वित करें। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री जी स्वयं जनपदों में जाकर संचारी रोग अभियान की समीक्षा करेंगें। मुख्यमंत्री जी ने खाद्यान्न वितरण के अन्तर्गत सामान्य वितरण तथा प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के कार्य पर विशेष ध्यान देने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा है कि वितरण कार्य को पारदर्शी ढंग से सम्पन्न करते हुए सभी जरूरतमंदों को खाद्यान्न उपलब्ध कराया जाए। उन्होंने कहा है कि जी0एस0टी0 कलेक्शन में वृद्धि के लिए प्रभावी प्रयास किए जाएं।
        श्री अवस्थी ने बताया कि गृह विभाग की धारा 188 के तहत 83,845 एफआईआर दर्ज करते हुये 2,15,598 लोगों को नामजद किया गया है। आगरा जोन में 7,201, प्रयागराज में 3,608, बरेली में 9,680, गोरखपुर में 5,690, कानपुर में 13,171, लखनऊ में 16,279, मेरठ में 11,059, वाराणसी में 13,758, लखनऊ कमिश्नरी में 997 और गौतमबुद्धनगर कमिश्नरी में 2,402 केस दर्ज किये गये हैं। प्रदेश में अब तक 83,74,955 वाहनांे की सघन चेकिंग में 60,745 वाहन सीज किये गये। चेकिंग अभियान के दौरान 39,21,95,427 रूपए का शमन शुल्क वसूल किया गया। कालाबाजारी एवं जमाखोरी करने वाले 972 लोगों के खिलाफ 731 एफआईआर दर्ज करते हुए 351 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। उन्होंने बताया कि फेक न्यूज के तहत अब तक 1677 मामलों को संज्ञान में लेते हुए कार्यवाही की गई है। 04 जुलाई को कुल 22 मामले, जिनमें ट्विटर के 14, फेसबुक के 08 मामले को संज्ञान में लिया गया हंै तथा साइबर सेल को आवश्यक कार्यवाही हेतु प्रेषित। उन्होंने बताया कि प्रदेश के 2765 हाॅट स्पाॅट के 799 थानान्तर्गत 8,42,400 मकानों के 49,38,024 लोगों को चिन्हित किया गया है। इन हाॅट स्पाॅट क्षेत्रों में कोरोना पाॅजीटिव लोगों की संख्या 7,852 है। इंस्टी्यूशनल क्वारेंटाइन किये गये लोगों की संख्या 9,516 है। उन्होंने  बताया कि प्रदेश में हाॅटस्पाॅट वाले बस्तियों में 4412 डोर स्टेप डिलिवरी मिल्क बूथ/मैन के द्वारा दूध वितरित किया गया है। डोर स्टेप डिलिवरी ‘फल, सब्जी आदि’ कुल 6617 वाहन लगाये गये हैं। डोर स्टेप डिलिवरी वाले प्रोविजन स्टोर की संख्या 5167 है। हाॅट स्पाॅट क्षेत्रों में कुल 40 प्रचलित सामुदायिक किचन हैं। इन बस्तियों में 13,91,700 राशन कार्डों पर खाद्यान्न का वितरण किया गया है।
       श्री अवस्थी ने बताया कि निर्माण कार्यों से जुडे़ 18.14 लाख श्रमिकों, नगरीय क्षेत्र के 8.91 लाख श्रमिकों तथा ग्रामीण क्षेत्रों के 6.74 लाख निराश्रित व्यक्तियों को रु0 1,000-1,000ध्- के आधार पर कुल 33.79 लाख लोगों को 337.89 करोड़ रुपये का भुगतान किया गया है। प्रदेश की पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्यूपमेन्ट एवं मास्क सहित कुल 70 इकाईयां क्रियाशील हैं। प्रदेश में 1127 फ्लोर मिल, 503 तेल मिल एवं 332 दाल मिल संचालित की जा रही है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में कल उत्तर प्रदेश परिवहन निगम की 6000 से अधिक बसों के माध्यम से लगभग 7,25,000 लोगों ने यात्रा की।  
        अपर मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि प्रदेश में टेस्टिंग का कार्य तेजी से किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि कल एक दिन में 26,061 सैम्पल की जांच की गयी। उन्होंने बताया कि अब तक कुल 8,34,951 सैम्पल की जांच की गयी। उन्होंने बताया कि प्रदेश में 7,627 कोरोना के मामले एक्टिव हैं। उन्होंने बताया कि अब तक 18,154 मरीज पूरी तरह से उपचारित हो चुके हैं। प्रदेश में कोरोना मरीजों का रिकवरी रेट 68.36 प्रतिशत है। उन्होंने बताया कि पूल टेस्ट के अन्तर्गत कुल 2275 पूल की जांच की गयी, जिसमें 1973 पूल 5-5 सैम्पल के तथा 302 पूल 10-10 सैम्पल की जांच की गयी। उन्होंने बताया कि ग्राम एवं मोहल्ला निगरानी समितियों के द्वारा निगरानी का कार्य सक्रियता से किया जा रहा है। अब तक 1,59,729 सर्विलांस टीम द्वारा 1,16,54,517 घरों के 5,94,40,581 लोगों का सर्वेक्षण किया गया है। 
        श्री प्रसाद ने बताया कि आरोग्य सेतु ऐप से अलर्ट जनरेट आने पर कन्ट्रोल रूम द्वारा निरन्तर फोन किया जा रहा है। अलर्ट जनरेट होने पर अब तक 1,04,145 लोगों को कन्ट्रोल रूम द्वारा फोन कर जानकारी प्राप्त की गयी। उन्होंने बताया कि प्रदेश के समस्त 75 जनपदों में दवा दुकानदारों एवं फ्रंट लाइन स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के रेन्डम आधार पर कुल 12299 सैम्पल लिये गये, जिसमें से मात्र 26 जनपदों के 72 सैम्पल पाॅजीटिव पाये गये जो मात्र 0.58 प्रतिशत है। उन्होंने कहा कि लोगों में कोरोना के प्रति जागरूकता एवं समाज के प्रति उत्तरदायित्वपूर्ण रवैये से कोरोना का संक्रमण नियंत्रण में है। 
         अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग द्वारा एक प्रतियोगिता आयोजित की गयी है। जिसमें कोई भी व्यक्ति कोरोना से बचाव एवं नियंत्रण हेतु 60 सेकेण्ड का वीडियों बनाकर अपनी प्रविष्टि स्वास्थ्य विभाग को उपलब्ध करा सकता है। सर्वश्रेष्ठ 100 प्रविष्टियों को 10,000-10,000 रूपये का ईनाम दिया जायेगा। इसके अतिरिक्त 150 शब्द तक का आईडिया भी कोरोना के सम्बन्ध में उपलब्ध कराये जा सकते है।  सर्वश्रेष्ठ 10 आईडिया को 10,000-10,000 रूपये का ईनाम दिया जायेगा। उन्होंने बताया कि व्हाट्सअप नं0-8005192995 एवं ईमेल-1उपद4बवअपक/हउंपसण्बवउ पर अपनी प्रविष्टि भेजी जा सकती है।- अमित शुक्ला/जयेन्द्र सिंह/धर्मवीर खरे