ALL अंतरराष्ट्रीय राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश अन्य राज्य बिजनेस खेल सिनेमा रोजगार धर्म मेट्रोमोनियल
मां कालरात्रि से गुहार
March 31, 2020 • AMIT VERMA

मानवकृत उपायों से आगे सब तर्क छोड़ कर मां कालरात्रि से गुहार के सात दोहे आज सातवें नवरात्र पर

मां काली अब आइए ,वधन 'करोना' काल , 
घूम रहा है दैत्य सा , नित पहने मुंडमाल । 

खल वृत्ति से बना रहा ,नित मानव को ग्रास ,
डरे डरे से देव सब , बस तुमसे ही आस ।

खप्पर लेकर आइए , मां धर कर नव रूप ,
घना अंधेरा छांटिए ,खिला नेह की धूप । 

रक्त बीज सा बढ रहा , मानव है लाचार ,
नवरातों में कीजिए ,मां आकर संहार । 

कल गौरी भी आएंगी , कीजै पथ प्रशस्त ,
मां कालरात्रि कीजिए ,आन दुष्ट को ध्वस्त ।

नवराता है सातवां , माता काली आज ,
हा हा करते भक्तों की , मात राखिए लाज ।

सात जन्म तक मानेंगे , मां तेरा उपकार ,
माते आ जो कर दिया , कोरोना संहार ।

डॉ ० घनश्याम बादल