ALL अंतरराष्ट्रीय राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश अन्य राज्य बिजनेस खेल सिनेमा रोजगार धर्म मेट्रोमोनियल
लॉक डाउन में मीडिया ने हिन्दू मुस्लिम करने के लिए मानवता और देश की धर्मनिरपेक्ष विरोधी ताकतों के इशारे पर कार्य किया - अच्छेलाल निषाद
April 28, 2020 • AMIT VERMA • उत्तर प्रदेश

वेबवार्ता(न्यूज़ एजेंसी)/अजय कुमार वर्मा
लखनऊ 28 अप्रैल। पूर्व राज्य मंत्री अच्छेलाल निषाद ने अपना बयां जारी करते हुए कहा कि जब देश में कोरोना लॉक डाउन प्रारम्भ हुआ तो देश के मीडिया ने हिन्दू मुस्लिम करने के लिए मानवता और देश की धर्मनिरपेक्षता विरोधी ताकतों के इशारे पर कार्य करने के लिये अपनी व पूरी ताकत झोंक दी थी। जिसके दुष्परिणाम भी आने लगे थे। प्रयागराज इसी के चलते एक गरीब लौटन राम निषाद की हत्या हो गई थी। अब वही तब्लीग़ी जमात के लोग जिनको को देशभर में कोरोना फैलाने के लिए जिम्मेदार बताया था, वो ठीक होने के बाद अब कोरोना से लोगों की जान बचाने के लिए कोरोना संक्रमित मरीजों के इलाज के लिए अपना ब्लड प्लाज्मा दान कर रहे हैं। जो लोग कोरोना पॉज़िटिव थे और इलाज के बाद ठीक हो गए, उनके ब्लड से प्लाज्मा निकलकर दूसरे कोरोना संक्रमित मरीजों को ठीक किया जा सकता है। 
    इस बारे में जब कोरोना संक्रमण से ठीक हो चुके जमतियों को पता चला तो उन्होंने लोगों की जान बचाने के लिए अपना ब्लड प्लाज्मा दान करने का फैसला किया।प्लाज्मा दान करने वाले जमातियों ने डॉक्टरों से अपील की है कि लोगों की जान बचाने के लिए उनके खून का एक एक कतरा तक इस्तेमाल किया जाए। इन लोगों का कहना है कि इंसानियत को बचाने के लिए अगर उनका खून काम आए तो इससे अच्छी बात क्या होगी। कोरोना वायरस कहर के बीच तबलीगी जमात अब भी सुर्खियों में बना हुआ है। तबलीगी जमात से जुड़े 300 से ज्यादा मरीजों ने ठीक होने के बाद प्लाज्मा दान करने की इच्छा जताई है। इसी बीच रविवार और सोमवार को 12 जमातियों ने अपना प्लाजमा भी दान किया। कोरोना के ज्यादातर मामलों के लिए जिम्मेवार माने जाने वाले तबलीगी जमात की काफी आलोचना हुई थी, मगर अब जिस तरह से कोरोना के खिलाफ जंग में आगे बढ़कर आए हैं, वह सराहनीय है।   
      दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने अपील की थी कि कोरोना से ठीक हो चुके मरीज अपना प्लाज्मा दान करें। इसके बाद सुल्तानपुरी सेंटर में कोरोना से ठीक हो चुके जमात के चार सदस्यों ने अपना प्लाज्मा दान किया। वहीं, कई अन्य केंद्रों पर भी जमातियों ने प्लाज्मा दिया है। सूत्रों की माने तो ठीक हो चुके 300 से ज्यादा तबलीगी जमात के सदस्यों ने प्लाज्मा देने के लिए दिल्ली सरकार के सहमति फॉर्म पर दस्तखत किए हैं। 
   दिल्ली सरकार का स्वास्थ्य विभाग प्लाज्मा थेरेपी से कोरोना का इलाज कर रहा है। तबलीगी जमात प्रमुख मौलाना साद ने भी ठीक हो चुके तबलीगी जमात के लोगों से प्लाज्मा दान करने की अपील की थी। लोकनायक अस्पताल में ठीक हो चुके मरीजों के प्लाज्मा से कोरोना वायरस के मरीजों का इलाज किया जा रहा है। खून के प्लाज्मा में वायरस के खिलाफ एंटीबॉडीज बन जाते हैं जो वायरस से लड़कर संक्रमण से बचाते हैं। ऐसे ठीक हुए मरीजों का प्लाजमा नए मरीजों को दिया जा रहा है। ऐसे ही समाचार मुम्बई और लखनऊ से भी प्राप्त हो रहे हैं।
       हम निषाद समाज के लोग शुरू से ही कोरोना जैसी वैश्विक महामारी में जाति धर्म के इस्तेमाल कर राजनीतिक रोटियां सेंकने वालों की आलोचना करता है।
 क्योंकि हम विश्वास करते हैं इन लाइनों में-
मजहब नहीं सिखाता आपस में वैर रखना। हिन्दी हैं हम, वतन है हिन्दोस्तां हमारा।।