ALL अंतरराष्ट्रीय राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश अन्य राज्य बिजनेस खेल सिनेमा रोजगार धर्म मेट्रोमोनियल
लाक डाउन का पालन करना, सच्ची देशभक्ति का परिचायक - केशव प्रसाद मौर्य 
March 30, 2020 • AMIT VERMA • उत्तर प्रदेश


वेबवार्ता(न्यूज़ एजेंसी)/अजय कुमार वर्मा
लखनऊ 30 मार्च। उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने कहा है कि लाक डाउन का पालन करना हम सबके लिए सच्ची देशभक्ति का परिचायक है। कोरोना से मुकाबला युद्ध जैसा है, यह एक अभूतपूर्व चुनौती है ,लेकिन इस पर हम जीत हासिल करके रहेंगे।
           उत्तर प्रदेश के विभिन्न स्थानों से अन्य राज्यों में अपनी आजीविका के लिए गए लोगों तथा वहां से आये आए हुए कुछ लोगों व प्रदेश की जनता से उन्होंने अपनी मार्मिक अपील में कहा है कि प्रधानमंत्री मोदी व उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी लाक डाउन का पालन करते हुए  हर नागरिक को हर  संभव सहायता उपलब्ध करा रहे हैं व मूलभूत आवश्यकताओं की पूर्ति कर रहे हैं।  उपमुख्यमंत्री ने कहा कि मैं भी एक किसान का बेटा हूं और किसानों, मजदूरों, श्रमिकों की समस्याओं व उनके दर्द को मैं भली-भांति समझता हूं, लेकिन लाक डाउन के चलते हम आपके बीच में नहीं आ  पा रहे हैं, क्योंकि मेरे आने से पुलिस व प्रशासन के अधिकारियों /कर्मचारियों को मेरे साथ लगना पड़ेगा और मैं कभी नहीं चाहूंगा कि जो लोग जनता की सेवा में लगे हैं, उन्हें मेरी सुरक्षा व्यवस्था में लगना पड़े। इस समय हम सबका एक ही कर्तव्य बनता है कि गरीबों मजदूरों, किसानों और जरूरतमंद लोगों की सेवा करें। फिर भी हमारी कोशिश है कि आपको कोई समस्या न होने पाए ।लाक डाउन का पालन करने के लिए इसलिए भी विशेष अनुरोध किया जा रहा है कि कोरोना वायरस के संक्रमण से स्वयं को और आम जनमानस को खतरा है और इसका एक ही उपाय है कि हम लाक डाउन का पालन अनिवार्य रूप से करें ।
          उपमुख्यमंत्री ने कहा कि लाक डाउन के चलते ही वह अयोध्या में रामलला विराजमान होने के समय अयोध्या नहीं जा सके। जैसे ही लाक डाऊन खत्म होगा, हम जनताके बीच जाएंगे और जनता की जो भी समस्याएं होंगी, उनका निराकरण भी सुनिश्चित करायेगे। 
      श्री मौर्य ने लाक डाउन का पालन कराने में लगे सुरक्षा बलो व प्रशासनिक अधिकारियों /कर्मचारियो व सेवा भाव में लगे हुए लोगों , चिकित्सकों व मीडिया के प्रति भी कृतज्ञता व्यक्त की है, कि वह इन गम्भीर परिस्थितियों में न केवल अपने दायित्वों का निर्वहन ही कर रहे हैं, बल्कि राष्ट्र व मानव  सेवा में समर्पित भाव से काम कर रहे हैं।