ALL अंतरराष्ट्रीय राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश अन्य राज्य बिजनेस खेल सिनेमा रोजगार धर्म मेट्रोमोनियल
लाॅकडाउन के नियमों का पालन करते हुए, ग्राम पंचायतों द्वारा प्रधानमंत्री के सीधे प्रसारण को सुना गया - भूपेन्द्र सिंह
April 24, 2020 • AMIT VERMA • उत्तर प्रदेश

वेबवार्ता(न्यूज़ एजेंसी)/अजय कुमार वर्मा
लखनऊ 24 अप्रैल। उत्तर प्रदेश के पंचायतीराज मंत्री भूपेन्द्र सिंह चैधरी ने बताया कि आज 24 अप्रैल, 2020 को राष्ट््रीय पंचायती राज दिवस के अवसर पर मा0 प्रधानमंत्री जी द्वारा प्रातः 11ः00 से 12ः00 बजें तक टेलीकास्ट/वेबकास्ट के माध्यम से देश की ग्राम पंचायतों को सम्बोधित किया गया साथ ही देश भर की विभिन्न ग्राम पंचायतों के प्रतिनिधियों से विडियों कान्फ्रेन्सिंग के द्वारा कोविड-19 आपदा की अवधि में किए गए प्रयासो पर चर्चा की एवं पंचायतों में ई-गवर्नेंस की स्थापना के लिए संचालित सभी एप्लीकेशन को एकीकृत रूप से ‘ई-ग्राम स्वराज वेब एप्लीकेशन’ के माध्यम से लाॅन्च किया गया।
श्री चैधरी ने बताया कि आज के इस अवसर पर मा0 प्रधानमंत्री जी द्वारा जनपद बस्ती, उत्तर प्रदेश की ग्राम पंचायत-नकटी की प्रधान श्रीमती वर्षा सिंह से बातचीत की और उनसें ग्राम पंचायत में कोरोना वायरस से लड़ने के लिए किए गए प्रयासों को समझा, देश में लगाए गए लाॅक डाउन पर ग्राम वासियों की प्रतिक्रिया जानी तथा विभिन्न लाभकारी योजनाओं के लिए पंचायत स्तर तक शत-प्रतिशत धनराशि पर समुदाय को मिलने वाले लाभ पर चर्चा की गई। उन्होने बताया कि आज राष्ट््रीय पंचायती राज दिवस के अवसर पर मा0 प्रधानमंत्री जी के सीधे प्रसारण कार्यक्रम को मेरे द्वारा, प्रमुख सचिव पंचायतीराज श्री मनोज कुमार सिंह, निदेषक पंचायतीराज श्रीमती किंजल सिंह  द्वारा अपने-अपने कार्यालय कक्ष में सोषल डिस्टेन्सिंग का पालन करते हुए गम्भीरता से देखा गया। उन्होने बताया कि प्रदेष के सभी जनपदों में लाॅकडाउन के नियमों का पालन करते हुए, ग्राम पंचायतों द्वारा मा0 प्रधानमंत्री जी के सीधे प्रसारण को सुना गया एवं देश भर की पंचायतों द्वारा किए जा रहे प्रयासों को जाना गया।
उपनिदेशक पंचायतीराज विभाग श्रीमती प्रवीणा चैधरी द्वारा बताया कि इसी दिन वर्ष 1993 में 73वां संविधान संशोधन प्रभाव में आया था, जिसके माध्यम से पंचायती राज व्यवस्था में त्रि-स्तरीय पंचायतों-ग्राम पंचायत, क्षेत्र पंचायत एव ंजिला पंचायत का संस्थागत ढांचा स्थापित हुआ था। इस दिन पंचायतीराज मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा विभिन्न कार्यक्रमों के आयोजन के साथ उत्कृष्ट कार्य करने वाली त्रिस्तरीय पंचायतों को उनके कार्यो के लिए पुरस्कृत किया जाता है, जिसका उद्देश्य पंचायतीराज व्यवस्था को मजबूत करना, ग्राम विकास को बढ़ावा देना और किसानों के हितों को बढ़ावा देना है।
उन्होने ने बताया कि वर्ष 2019-20 में पंचायतीराज मंत्रालय द्वारा 03 श्रेणियों में पंचायतों को उनके वर्ष 2018-19 में किए गए कार्यो के आधार पर पुरस्कृत किए जाने की घोषणा की गई- नाना जी देश मुख गौरव ग्राम सभा पुरस्कार-ग्राम सभाओं को मजबूत करने, निर्णय लेने और सामाजिक अंकेक्षण की संस्था के रूप में रूपांकित करने के क्षेत्र में सर्वोत्कृष्ट कार्य करने वाली प्रदेश की एक ग्राम पंचायत को यह पुरस्कार दिया जाता है। इस वर्ष यह पुरस्कार जनपद बाराबंकी की ग्राम पंचायत चन्दवारा को दिया गया है। बाल मैत्रिक ग्राम पंचायत पुरस्कार-बाल अधिकारों के संरक्षण एवं उनके विकास को बढ़ावा देने के लिए प्रदेश की एक ग्राम पंचायत को इस पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। इस वर्ष यह पुरस्कार जनपद जालौन की ग्राम पंचायत अकबर पुर को दिए जाने की घोषणा की गई है। ग्राम पंचायत विकास योजना पुरस्कार-ग्राम पंचायतों द्वारा सहभागी एवं सुसंगत वार्षिक कार्य योजना निर्माण की प्रक्रिया को लागू करने के लिए इस वर्ष से यह पुरस्कार प्रदेश की एक ग्राम पंचायत को दिया गया है। इस वर्ष इस पुरस्कार के लिए जनपद जालौन की ग्राम पंचायत अकबरपुर का चयन किया गया है।- सतीश भारती