ALL अंतरराष्ट्रीय राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश अन्य राज्य बिजनेस खेल सिनेमा रोजगार धर्म मेट्रोमोनियल
कोविड-19 : विधानसभा अध्यक्ष ने सभी विधायकों से एक करोड़ देने की अपील की
April 3, 2020 • AMIT VERMA • उत्तर प्रदेश

वेबवार्ता(न्यूज़ एजेंसी)/अजय कुमार वर्मा
लखनऊ। उत्तर प्रदेश विधान सभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित ने उ0प्र0 विधान सभा के सभी सदस्यों को पत्र लिखकर कोरोना से संघर्ष के लिए जरूरी चिकित्सकीय उपकरण आदि के लिए विधायक निधि से एक करोड़ की धनराशि आवंटित करने अपील की है। पत्र में कहा गया है कि विश्व कोरोना महामारी से जूझ रहा है। अपना भारत प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व व मार्गदर्शन में महामारी से संघर्षरत है। उन्होंने परस्पर दूरी बनाने - ‘सोशल डिस्टेंसिंग’ के लिए आग्रह किया है। उन्होंने 14 अप्रैल तक संपूर्ण बंदी - लाकडाउन की घोषणा भी की है। उन्होंने पत्र में लिखा है कि उत्तर प्रदेश के मा0 मुख्यमंत्री योगी जी ने तदानुसार अनेक कदम उठाए हैं। वे प्रतिपल युद्ध स्तर पर सक्रिय हैं।
श्री दीक्षित ने विधायकों से कहा है कि आप लोकप्रिय जनप्रतिनिधि हैं। अपनी लोकप्रियता का प्रयोग करते हुए आप इस संदर्भ में सभी उपायों, निर्देशों के अनुपालन के लिए आमजनों को भी प्रेरित कर रहे हैं। ऐसा करना हम सबका राष्ट्रीय कत्र्तव्य हैं।
मा0 अध्यक्ष ने पत्र में लिखा है कि मुख्यमंत्री ने राज्य स्तर पर ‘उत्तर प्रदेश कोविड केयर फंड’ की स्थापना की है। इस फंड से सभी मेडिकल कालेजों व जिलास्तरीय अस्पतालों को कोराना से निपटने के लिए जरूरी उपकरणों से समृद्ध बनाया जाना है। महामारी से जूझने के लिए जरूरी चिकित्सकीय सहायता व जांच के उपकरणों, जरूरी आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए हम सब विधायक निधि का सदुपयोग कर सकते हैं। इस निधि की एक मद पर अधिकतम व्यय की 25 लाख की सीमा कोरोना सम्बंधी व्यय के लिए मुख्यमंत्री के निर्देशानुसार खत्म कर दी गई है।
विधान सभा अध्यक्ष ने सभी सदस्यों से अनुरोध किया है कि इस महामारी से संघर्ष में अपना राष्ट्रीय दायित्व निभाते हुए हम सदस्यगण परस्पर दूरी के आवश्यक मानक का पालन, प्रचार, भी कर रहे होंगे। उन्होंने आशा की है कि आप इस संघर्ष में अग्रिम मोर्चे पर जूझ रहे चिकित्साकर्मियों प्रशासनिक कार्य में जुटे पुलिस कर्मियों आदि की सहायता व आदर के लिए भी सबको प्रेरित भी कर रहे होंगे। उन्होंने सभी सदस्यों के  स्वस्थ, सक्रिय व यशस्वी जीवन की कामना की है।