ALL अंतरराष्ट्रीय राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश अन्य राज्य बिजनेस खेल सिनेमा रोजगार धर्म मेट्रोमोनियल
केन्द्र और प्रदेश सरकारें अपनी पूर्व की चिरपरिचित जुमलेबाजी बन्द करें - लोकदल
June 2, 2020 • AMIT VERMA • उत्तर प्रदेश

वेबवार्ता(न्यूज़ एजेंसी)/अजय कुमार वर्मा
लखनऊ 2 जून। राष्ट्रीय लोकदल के प्रदेश प्रवक्ता ने कहा कि देश के किसानों के साथ केन्द्र और प्रदेश सरकारें अपनी पूर्व की चिरपरिचित जुमलेबाजी बन्द करें तथा सीधी तौर से लाभ पहुँचाने की प्रक्रिया अपनाकर उन्हें राहत दें क्योंकि किसानों की स्थिति लाक डाउन के साथ साथ दैवीय प्रकोप ने बहुत ही दयनीय कर दी है।रबी की तैयार फसलों को बारिश और ओलावृष्टि ने किसानों के घर तक नहीं पहुँचने दिया।फूल और सब्जी की खेती करने वाले किसानों को लाक डाउन ने तबाह और बर्बाद कर दिया।सब्जियों को कौड़ियों के भाव बेचना पड़ा परन्तु फूलों की कौड़ी भी नहीं मिली।बहुत सी सब्जियां खेतों में ही रह गईं और किसानों को खेतों की जुताई करानी पडी़ क्योंकि उन सब्जियों की खेतों से तुड़वाने की भी कीमत नहीं मिल पा रही थी। 
       श्री त्रिवेदी ने कहा कि इस बुरी स्थिति के समय पर भी प्रधानमंत्री द्वारा एक वर्ष बाद की खरीफ की फसलों में धान की एम.एस.पी. 53 से 83 रुपये तक बढ़ाने का सपना दिखाया जा रहा है जबकि एक वर्ष बाद की लागत का अनुमान अभी से किसान भी नहीं बता सकता परन्तु वातानुकूलित कमरों में बैठकर लागत का पता चल गया और समर्थन मूल्य की घोषणा कर दी गई।आश्चर्य की बात तो यह है कि किसानों की दुनिया आज लुटी पड़ी है और आप सपने एक साल बाद के दिखा रहे हो। 
      रालोद प्रदेश प्रवक्ता ने कहा कि हमारे कृषि प्रधान देश का किसान योद्धाओं का भी योद्धा है और यदि ऐसे वक्त पर इस योद्धा को तत्काल शक्ति रूपी किट न दी गई तो आम जनमानस के साथ साथ देश की सीमाओं और देश के अन्दर के योद्धाओं को शक्ति कौन पहुँचायेगा।उन्होंने सरकार से माँग करते हुए कहा कि सभी लघु एवं सीमान्त किसानों को तत्काल 20 - 20 हजार की आर्थिक सहायता अनुदान स्वरूप प्रदान की जाय ताकि आगामी फसल तक अपने परिवार की देखभाल करते हुए अन्य सभी मोर्चों पर लड़ रहे योद्धाओं के लिए अन्न पैदा कर सके।सरकार द्वारा ऐसा करने पर ही योद्धाओं की सुरक्षा सम्बन्धी प्रधानमंत्री की भावना धरातल पर मूर्त रूप ले सकेगी।