ALL अंतरराष्ट्रीय राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश अन्य राज्य बिजनेस खेल सिनेमा रोजगार धर्म मेट्रोमोनियल
जिलाधिकारी शुभ्रा ने कोरोना वायरस संक्रमण की प्रभावी रोकथाम हेतु सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देश दिये
August 5, 2020 • AMIT VERMA • उत्तर प्रदेश

वेबवार्ता(न्यूज़ एजेंसी)/अजय कुमार वर्मा/ एस के सोनी 
रायबरेली 05 अगस्त। जिलाधिकारी शुभ्रा सक्सेना ने कोविड-19 कोरोना वायरस संक्रमण की प्रभावी रोकथाम एवं बचाव हेतु कलेक्ट्रेट के बचत भवन सभागार में बैठक कर सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देश दिये कि जनसामान्य को कोविड-19 कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने हेतु आवश्यक है कि बहुत जरूरी होने पर ही घर से बाहर निकलने पर मास्क अवश्य लगाए व सोशल डिस्टेसिंग का ध्यान रखे। 


      उन्होंने कहा कि लापरवाही के कारण कोरोना संक्रमण का प्रसार बढ़ रहा है। एडीएम सहित सभी एसडीएम को निर्देश दिये कि कोरोना से बचाव एवं नियंत्रण हेतु सभी प्रकार के उपाय किये जा रहे है। यदि किसी व्यक्ति को खांसी, जुखाम, बुखार एवं सांस सम्बन्धी परेशनी के कोई लक्षण हो तो जनपद में स्थापित एकीकृत कोविड कमाण्ड एवं कंट्रोल सेन्टर को अविलम्ब सूचना दें। सेन्टरों को 24 घण्टे संचालित व सक्रिय रखे। उन्होंने आमजनमानस से अपील की है कि यदि किसी व्यक्ति को खासी, जुखाम, बुखार, सास सम्बन्धी परेशानी हो तो छिपाये नही बल्कि जानकारी कंट्रोल रूम में भी दे सकते है जिससे उनका जांच व उपचार की कार्यवाही शीघ्र की जा सके। स्वास्थ्य विभाग के नम्बर 0535-2208145, 2701702, 2701703 एवं राजस्व विभाग 0535-2203320, 2203214 पर सम्पर्क कर सूचना दें सकते है। उन्होंने कहा कि विभिन्न कार्यालयांे, संस्थाओं आदि में स्थापित कोविड हेल्प डेस्क के सुचारू संचालन व सक्रिय रखा जाये। हेल्प डेस्क के निकट सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग का कोरोना जागरूकता वालो पोस्टर कोरोना से बचाना है आसान, बातों का रखे ध्यान जिला सूचना कार्यालय से प्राप्त कर लगाई जाये। जिन क्षेत्रों में संक्रमण के प्रकरण सामने आ रहे हैं वहां डोर-टू-डोर सर्वे कराकर जिन व्यक्तियों में पाजिटिव सिम्टम्स आ रहे हैं उन्हें एल-1 एवं एल-2 टाइप के अस्पताल में भर्ती कराना सुनिश्चित किया जाए। टेस्टिंग के कार्यो को निरन्तर युद्ध स्तर पर किया जाये। सर्विलास टीम, टेस्टिंग कोविड एवं नन कोविड अस्पतालों का प्रबन्धन, एम्बुलेस सेवा का प्रबन्धन मरीजो को भर्ती कराने एवं डिस्चार्ज करने का प्रबंधन अस्पतालों के लिए लाजिस्टिक का प्रबंधन इत्यादि कराना अत्यंत आवश्यक है। डोर-टू-डोर सर्वे के कार्य हेतु प्रत्येक वार्ड में नगर निकायो माध्यम से पल्स आक्स्ीमीटर, इंफ्रारेड थर्मामीटर एवं सैनिटाइजर की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। जनपद में यदि कोई व्यक्ति बिना मास्क का दिखाई दे तो तत्काल कड़ाई कार्यवाही की जाये। सभी तिराहा, चैराहों एवं बाजारों में पब्लिक ऐड्रेस सिस्टम के माध्यम से बचाव के तरीकों का व्यापक प्रचार-प्रसार कराकर लोगों को जागरूक करा जाये। जनपद में कोरोना महामारी के दृष्टिगत सभी इमरजेंसी सुविधाए सुचारू रूप से संचालित होना चाहिए। सोशल डिस्टेसिंग के माध्यम से कार्य करे तथा मास्क का प्रयोग अवश्य करे एवं अनावश्यक रूप से कही पर भीड़-भाड़ का जमावड़ा न होने दें। जिन क्षेत्रो में कंटेनमेट जोन में विभिन्न गतिविधियों को प्रतिबन्धित रखे जाने के प्रावधानों का सख्ती से पालन कराया जाए। इसके साथ ही कंटेमेट जाने में लोगों को आवश्यक सामग्री की उपलब्धता में कोई असुविधान न हो।
      जिलाधिकारी ने कहा कि बुजुर्ग, एक से अधिक बीमारियों से ग्रसित या शरीरिक रूप से कमजोर व्यक्ति, गर्भवती महिलाए एवं 10 वर्ष से कम उम्र के बच्चे आवश्यक न हो तो घर से बाहर न निकले तथा आमजनमानस को आरोग्य सेतु एवं आयुष सुरक्षा कवच एप डाउनलोड कर उसका प्रयोग कराने के लिए प्रेरित किया जाये।
      इस मौके पर मुख्य विकास अधिकारी अभिषेक गोयल, अपर पुलिस अधीक्षक नित्यानन्द राय, एडी सूचना प्रमोद कुमार, समस्त एसडीएम सहित सम्बन्धित अधिकारी उपस्थित थे।