ALL अंतरराष्ट्रीय राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश अन्य राज्य बिजनेस खेल सिनेमा रोजगार धर्म मेट्रोमोनियल
डोर-टू-डोर सर्वे करने वाली टीम को मास्क, ग्लव्स तथा सेनिटाइजर अनिवार्य रूप से उपलब्ध कराया जाए - अवनीश कुमार अवस्थी
July 29, 2020 • AMIT VERMA • उत्तर प्रदेश

वेबवार्ता(न्यूज़ एजेंसी)/अजय कुमार वर्मा
लखनऊ 29 जुलाई। उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव सूचना एवं गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने आज यहां लोक भवन में प्रेस प्रतिनिधियों को सम्बोधित करते हुए बताया कि कोविड-19 के नियंत्रण के सम्बन्ध में की जा रही कार्यवाही को और बेहतर करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा है कि इस सम्बन्ध में जनपद स्तर पर जिलाधिकारी, मुख्य विकास अधिकारी तथा मुख्य चिकित्सा अधिकारी की कमेटी गठित करते हुए कार्ययोजना तैयार की जाए। उन्होंने इस कमेटी को पर्याप्त वित्तीय अधिकार भी प्रदान किए जाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने निर्देश दिए है कि आगामी शुक्रवार को वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी जनपद गौतमबुद्धनगर-बुलन्दशहर, हापुड़-गाजियाबाद, मेरठ-मुजफ्फरनगर तथा शामली-सहारनपुर का भ्रमण कर इन जनपदों की स्वास्थ्य सेवाओं की मौके पर समीक्षा करेंगे। इस अवसर पर अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास आयुक्त तथा अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य ने मुरादाबाद एवं बरेली मण्डल तथा अपर मुख्य सचिव चिकित्सा शिक्षा और अपर मुख्य सचिव ग्राम्य विकास एवं पंचायतीराज ने अलीगढ़ तथा आगरा मण्डल की स्वास्थ्य सेवाओं की समीक्षा के निष्कर्षों से मुख्यमंत्री को अवगत कराया।
       श्री अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री ने कहा है कि डोर-टू-डोर सर्वे के माध्यम से मेडिकल स्क्रीनिंग करने वाली टीम को मास्क, ग्लव्स तथा सेनिटाइजर अनिवार्य रूप से उपलब्ध कराया जाए। उन्होंने बताया कि लखनऊ जनपद में ही डोर-टू-डोर सर्वें के माध्यम से लगभग 14 लाख लोगों का स्क्रीनिंग किया गया है। मेडिकल स्क्रीनिंग में कोविड-19 की दृष्टि से संदिग्ध पाए गए लोगों की रैपिड एन्टीजन टेस्ट के माध्यम से टेस्टिंग की जाए। इसके दृष्टिगत प्रदेश में पर्याप्त संख्या में रैपिड एन्टीजन टेस्ट किट की उपलब्धता सुनिश्चित की जाए। अगस्त माह में कई नई लैब क्रियाशील हो जायेगी जिससे टेस्टिंग क्षमता में और गति आयेगी। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री ने राज्य मंे संचालित विभिन्न एम्बुलेंस सेवाओं को और सक्रिय करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने नई एम्बुलेंस क्रय करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा है कि टेलीमेडिसिन सुविधा एवं चिकित्सालयों में ओ0पी0डी0 सेवा को और अधिक सुदृढ़ किया जाए। चिकित्सालायों में आपरेशन का कार्य पिछले वर्ष की अपेक्षा अधिक आपरेशन हुए है। इस सम्बन्ध में ई-संजीवनी आनलाॅइन ओ0पी0डी0 सेवा का व्यापक प्रचार-प्रसार किया जाए, ताकि अधिक से अधिक जरूरतमंद घर से ही चिकित्सीय परामर्श प्राप्त कर सकें। उन्होंने बताया कि अब तक 10 हजार से अधिक लोगों ने ई-संजीवनी पोर्टल पर टेलीमेडिसिन के माध्यम से चिकित्सकों से परामर्श प्राप्त किया है। टेलीमेडिसिन के पर्चें पर सरकारी अस्पतालों से भी दवाएं ली जा सकती है। उन्होंने प्रवर्तन ड्यूटी करने वाले पुलिस कर्मियों को मास्क, ग्लव्स तथा सेनिटाइजर अवश्य उपलब्ध कराए जाने के निर्देश भी दिए।
     श्री अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री ने कहा है कि कोविड-19 सम्बन्धी विभिन्न गतिविधियों के सुचारु संचालन एवं माॅनीटरिंग के उद्देश्य से प्रत्येक जनपद में इण्टीग्रेटेड कमाण्ड एवं कण्ट्रोल सेण्टर स्थापित कराया गया है। उन्होंने इण्टीगे्रटेड कमाण्ड एण्ड कण्ट्रोल सेण्टर को पूरी सक्रियता के साथ संचालित करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री ने कहा है कि प्रधानमंत्री के पैकेज में प्रदेश के एम0एस0एम0ई0 सेक्टर के लिए 15 हजार करोड़ रुपए का ऋण प्राविधानित किया गया है। उन्होंने इस सम्बन्ध में की जा रही कार्यवाही को और तेज किए जाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि जनपद स्तर पर संचालित जिला सेवायोजन कार्यालयों को अपना पोर्टल बनाने के निर्देश दिये है।
     श्री अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री ने कहा है कि आपदा से होने वाली जनहानि को तकनीक की मदद से रोका जा सकता है। इसके दृष्टिगत प्रदेश सरकार ने ‘इण्टीग्रेटेड अर्ली वार्निंग सिस्टम’ लाॅन्च किया है। इस ‘इन्टीग्रेटेड अर्ली वार्निंग सिस्टम’ से खराब मौसम तथा आकाशीय बिजली से आमजन का बचाव करने में सहायता मिलेगी। उन्होंने इस व्यवस्था को प्रभावी ढंग से लागू करने के निर्देश दिए हैं। श्री अवस्थी ने बताया कि गृह विभाग की धारा 188 के तहत 1,57,992 एफआईआर दर्ज करते हुये 3,29,070 लोगों को नामजद किया गया है। प्रदेश में अब तक 1,08,57,760 वाहनांे की सघन चेकिंग में 65,530 वाहन सीज किये गये। चेकिंग अभियान के दौरान 54,4,77,312 रूपए का शमन शुल्क वसूल किया गया। कालाबाजारी एवं जमाखोरी करने वाले 1,033 लोगों के विरूद्ध आवश्यक वस्तु अधिनियम के अन्तर्गत 771 एफआईआर दर्ज किये गये है। उन्होंने बताया कि प्रदेश के 7,394 हाॅट स्पाॅट के 1057 थानान्तर्गत 12,16,415 मकानों के 71,2,517 लोगों को चिन्हित किया गया है। उन्होंने बताया कि प्रायः यह देखा जा रहा है कि ग्रामीण व शहरी क्षेत्रों में लोग मास्क नही पहन रहे है। उन्होंने कहा कि सभी लोग मास्क अवश्य लगाये अन्यथा मास्क न लगाने वालों पर रूपये 500 का जुर्माना किया जायेगा।
     अपर मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि प्रदेश में टेस्टिंग का कार्य तेजी से किया जा रहा है। प्रदेश में कल एक दिन में 87,754 सैम्पल की जांच की गयी, जिसमें 52,195 रेपिड एन्टीजन टेस्ट तथा शेष आर0टी0पी0सी0आर0, ट्रूनेट मशीन तथा अन्य विधि से जांच की गयी। इस प्रकार कोविड-19 की जांच में 21 लाख का आकड़ा पार करते हुए प्रदेश में अब तक 21,20,843 सैम्पल की जांच की गयी है। प्रदेश में विगत 24 घंटंे में कोरोना के 3570 नये मामले आये है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में 29,997 कोरोना के मामले एक्टिव हैं। अब तक 45,807 मरीज पूरी तरह से उपचारित हो चुके हैं। उन्होंने बताया कि पूल टेस्ट के अन्तर्गत कुल 2,764 पूल की जांच की गयी, जिसमें 2,378 पूल 5-5 सैम्पल के तथा 386 पूल 10-10 सैम्पल की जांच की गयी।
      श्री प्रसाद ने बताया कि प्रदेश में सर्विलांस की कार्यवाही के अन्तर्गत 1,98,032 सर्विलांस टीम द्वारा 1,42,68,321 घरों के 7,22,91,972 लोगों का सर्वेक्षण किया गया है। उन्होंने बताया कि संक्रमित लोगों में पुरूष 70.49 प्रतिशत तथा महिलाएं 29.51 प्रतिशत है। जबकि आयु वर्ग के अनुसार 0-20 आयु वर्ग के 14.61 प्रतिशत, 21-40 आयु वर्ग के 49.38 प्रतिशत, 41-60 आयु वर्ग के 27.83 प्रतिशत तथा 60 वर्ष के अधिक आयु वर्ग के 8.17 प्रतिशत लोग संक्रमित पाये गये है।- अमित कुमार शुक्ला/जयेन्द्र सिंह/ इंजेश सिंह