ALL अंतरराष्ट्रीय राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश अन्य राज्य बिजनेस खेल सिनेमा रोजगार धर्म मेट्रोमोनियल
देश को स्वतंत्र कराने वाले बलिदानी महापुरूषों का मजाक उडाना अशोभनीय है - सुरेन्द्रनाथ त्रिवेदी
February 5, 2020 • AMIT VERMA • उत्तर प्रदेश


वेबवार्ता/अजय कुमार वर्मा 
लखनऊ। राष्ट्रीय लोकदल के प्रदेश प्रवक्ता सुरेन्द्रनाथ त्रिवेदी ने कहा कि स्वतंत्रता आन्दोलन के महानायक राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के प्रति अशोभनीय विचार रखने वाले भाजपा सांसद के अन्दर नाथूराम गोडसे की भक्ति स्पष्ट होती है। भाजपा सरकार के कई सांसद नाथूराम गोडसे के भक्त हैं और समय समय पर साध्वी प्रज्ञा ठाकुर जैसे कथित देशभक्त राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की हत्या करने वाले का गुणगान करते रहे हैं और छदमवेश धारी सैकडों देषभक्त ऐसे सांसदों का अन्र्तरात्मा से सम्मान करते हैं क्योंकि इन पर कोई कार्यवाही आज तक शीर्ष नेताओं द्वारा नहीं की गयी है।
श्री त्रिवेदी ने कहा कि स्वतंत्रता आन्दोलन के समय गिरफतार होने के बाद अंगे्रजों से माफी मांगने वाले लोगो के ही पदचिन्हों पर चलने वाले लोग आज गांधी जी को बुरा भला कह रहे हैं। यह कहना अतिषयोक्ति न होगी कि भाजपा और आनुषंगिक संगठनों ने समय समय पर गांधी जी को अपषब्द कहें हैं और विगत कई वर्षाे से गांधी जी के नाम का सहारा लेकर देषभक्त होने का ढोंग रच रहे हैं। इस प्रकार का ही नाटक करने वाले लोगो को स्वतंत्रता आन्दोलन के बलिदानी लोग नाटकीय नजर आ रहे हैं। गोस्वामी तुलसीदास ने लिखा है कि “जाकी रही भावना जैसी। प्रभु मूरति देखी तिन तैसी”। कथित रामभक्त लोगो पर यह चैपाई सटीक प्रतीत होती है।
रालोद प्रदेश प्रवक्ता ने भाजपा नेताओं को अपने विचारों की अभिव्यक्ति में सावधानी बरतने की नसीहत देते हुये कहा कि देश को स्वतंत्र कराने वाले बलिदानी महापुरूषों का मजाक उडाना अशोभनीय है और ऐसे अक्षम्य प्रयास करने वाले लोग विदेषों में भी स्वयं के साथ साथ देष की खिल्ली उड़ाते हैं। यह भी कटु सत्य है कि भाजपा अथवा उसके अन्य सहयोगी संगठनों में से किसी ने भी स्वतंत्रता आन्दोलन में सक्रिय भाग नहीं लिया था नही तो उनका नाम अगली पंक्ति में होता ।