ALL अंतरराष्ट्रीय राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश अन्य राज्य बिजनेस खेल सिनेमा रोजगार धर्म मेट्रोमोनियल
डी0जी0पी0 ने विवाद/रंजिश आदि घटनाओं पर अंकुश के सम्बन्ध में दिये दिशा-निर्देश
June 2, 2020 • AMIT VERMA • उत्तर प्रदेश

वेबवार्ता(न्यूज़ एजेंसी)/अजय कुमार वर्मा
लखनऊ 2 जून। एच0सी0 अवस्थी, पुलिस महानिदेशक, उ0प्र0 द्वारा समस्त जोनल अपर पुलिस महानिदेशक, पुलिस आयुक्त लखनऊ, गौतमबुद्धनगर, परिक्षेत्रीय पुलिस महानिरीक्षक/ पुलिस उपमहानिरीक्षक, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक/पुलिस अधीक्षक, प्रभारी जनपद उ0प्र0 को विवाद/रंजिश आदि की घटनाओं पर पूर्व में सतर्क रहकर उनकी रोकथाम एवं प्रभावी कार्यवाही के संबंध में मुख्यतः निम्न निर्देश दिये गये हैं:-
जनपद स्तर पर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक/पुलिस अधीक्षक एवं तहसील स्तर पर क्षेत्राधिकारी/उपजिलाधिकारी द्वारा शांति समिति की बैठक कर ली जाये। कोविड-19 प्रोटोकाल के दृष्टिगत सोशल डिस्टेंसिंग आदि का पूर्ण अनुपालन किया जाये।

ऽ थाने पर मौजूद त्यौहार रजिस्टर, भूमि विवाद रजिस्टर, रजिस्टर नं0 8(ग्राम अपराध रजिस्टर) आदि का अवलोकन कर पूर्व में किसी प्रकार का विवाद प्रकाश में आया हो तो उनपर  निरंतर निगरानी रखते हुये नियमानुसार निरोधात्मक कार्यवाही की जाये।

ऽ थाना क्षेत्र में भूमि विवाद, अन्य  प्रकृति के विवाद तथा विवादित स्थलोें से संबंधित प्रकरणों का प्राथमिकता के आधार पर निस्तारण कराते हुये आवश्यकतानुसार निरोधात्मक कार्यवाही की जाये। पुरानी घटनायें की समीक्षा कर आवश्कतानुसार निरोधात्मक कार्यवाही की जाये तथा जनपद में वांछित चल रहे ऐसे आपराधियों की गिरफ्तारी की जाये।

ऽ किसी भी प्रकार की अफवाहों का तत्काल खंडन करने की कार्यवाही की जाये। विशेष रूप से सोशल मीडिया के विभिन्न प्लेटफार्मो, फेसबुक, व्हाट्सएप, ट्विटर पर फैलने वाले अफवाहों, आपत्तिजनक टिप्पणियों व पोस्टों आदि की निरन्तर निगरानी कर सतर्क दृष्टि रखी जाये। इस कार्य में डिजीटल वाॅलटिंयर का सहयोग लिया जाये।

ऽ बीट प्रणाली को और अधिक प्रभावी बनाया जाये। आरक्षी से लेकर पुलिस अधीक्षक स्तर तक के अधिकारी अपने-अपने क्षेत्र में भ्रमणशील रहें, जिससे शरारती तत्वों पर कडाई से अंकुश लगा रहे।

ऽ व्यापारिक प्रतिष्ठानों, भवनों, बस अड्डो, रेलवे स्टेशन व व्यस्त्तम चैराहों आदि पर लगे सीसीटीवी कैमरों की समीक्षा कर ली जाये।

ऽ कम्युनिटी पुलिसिंग प्रोग्राम (एस-10) के संबंध में इस मुख्यालय के पूर्व में निर्गत परिपत्र में अंकित निर्देशों का अनुपालन सुनिश्चित किया जाये।

ऽ इस संबंध में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक/पुलिस अधीक्षक प्रशासनिक अधिकारियों से निकटतम समन्वय स्थापित रखा जाये।