ALL अंतरराष्ट्रीय राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश अन्य राज्य बिजनेस खेल सिनेमा रोजगार धर्म मेट्रोमोनियल
डा0 श्यामा प्रसाद मुखर्जी के बलिदान दिवस को अखण्ड भारत दिवस के रूप में मनाने पर गम्भीरता से विचार - केशव प्रसाद मौर्य
February 28, 2020 • AMIT VERMA • उत्तर प्रदेश

वेबवार्ता(न्यूज़ एजेंसी)/अजय कुमार वर्मा 
लखनऊ 28 फरवरी। केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि उनकी मन्शा है कि डा0 श्यामा प्रसाद मुखर्जी के बलिदान दिवस को अखण्ड भारत दिवस के रूप में मनाया जाय, क्यांेकि अखण्ड भारत के निर्माण के लिए स्वतन्त्रता प्राप्ति के बाद सबसे पहले उन्होंने बलिदान दिया था श्री केशव प्रसाद मौर्य आज डा0 श्यामा प्रसाद मुखर्जी सिविल अस्पताल, लखनऊ में डा0 श्यामा प्रसाद मुखर्जी की प्रतिमा के सौन्दर्यीकरण कार्य का लोकार्पण करने के उपरान्त आयोजित समारोह को सम्बोधित कर रहे है।
      उपमुख्यमंत्री श्री मौर्य ने अपने भावपूर्ण व सारगर्भित सम्बोधन में जहाॅ डा0 श्यामा प्रसाद मुखर्जी के जीवन संस्मरणों की याद ताजा की वही उन्होंने उनके व्यक्तित्व व कृतित्व पर प्रकाश डालते हुए लोगों से उनके जीवन दर्शन से प्रेरणा लेने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि श्यामा प्रसाद मुखर्जी के जीवन दर्शन पर जितना भी प्रकाश डाला जाय, कम होगा। उनके बलिदान को देश कभी भुला नहीं सकता। हास्पिटल परिसर में उनकी प्रतिमा के सौन्दर्यीकरण कार्य की सराहना करते हुए उन्होंने कहा कि यहाॅ पर और भी कुछ कार्य कराये जाये और अधिक आकर्षक बनाया जाये।
      श्री मौर्य ने कहा कि देश सर्वोपरि है। देश की अखण्डता के लिए उन्होंने जो रास्ता दिखया उसका हम सबको अनुसरण करना चाहिए। इससे पूर्व, उप मुख्यमंत्री श्री केशव प्रसाद मौर्य, विधायी एवं न्याय मंत्री श्री बृजेश पाठक सहित अन्य लोगों ने डा0 श्यामा प्रसाद मुखर्जी प्रतिमा पर पुष्प अर्पित किये।
     इस अवसर पर विधायी एवं न्याय तथा ग्रामीण अभियन्त्रण विभाग के मंत्री बृजेश पाठक ने डा0 श्यामा प्रसाद मुखर्जी को श्रद्धाजंलि अर्पित करते हुए कहा कि देश डा0 श्यामा प्रसाद मुखर्जी का हमेशा ऋणी रहेगा।
     इस अवसर पर निदेशक डा0 श्यामा प्रसाद मुखर्जी सिविल अस्पताल पी0एस0 नेगी, मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डा0 प्रवीण कुमार, चिकित्सा अधीक्षक डा0 आशुतोष दुबे, लो0नि0वि0 के प्रमुख अभियंता श्री सत्येन्द्र कुमार श्रीवास्तव, अधीक्षण अभियन्ता, श्री जे0के0 बांगा आदि मौजूद रहे।- बी0 एल0 यादव/अजय द्विवेदी