ALL अंतरराष्ट्रीय राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश अन्य राज्य बिजनेस खेल सिनेमा रोजगार धर्म मेट्रोमोनियल
अग्निशमन इकाइयां भी सभी जनपदों में युद्ध स्तर पर सैनेटाइजेशन के कार्य में तत्परता से जुटी है : अवनीश कुमार अवस्थी
May 8, 2020 • AMIT VERMA • उत्तर प्रदेश

वेबवार्ता(न्यूज़ एजेंसी)/अजय कुमार वर्मा
लखनऊ 08 मई। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देष पर कोरोना वायरस के संक्रमण से निपटने हेतु जनमानस को तात्कालिक एवं दूरगामी लाभ पहुंचाने के लिए प्रदेष पुलिस की अग्निषमन इकाइयां भी सभी जनपदों में युद्ध स्तर पर सैनेटाइजेषन के कार्य में तत्परता से जुटी हुई है।
          अपर मुख्य सचिव, गृह अवनीष कुमार अवस्थी ने पुलिस महानिदेषक, फायर सर्विस आर0 के0 विष्वकर्मा से मिली जानकारी का विस्तृत ब्यौरा देते हुए आज यहां बताया कि पूरे प्रदेष भर में अब तक कुल 24428 स्थलों पर सैनेटाइजेषन का कार्य सफलता पूर्वक किया जा चुका हैं। इसमें हाट स्पाट/संभावित हाट स्पाट 1152, संवेदनषील स्थल 2236, बाजार स्थल 2998, आवासीय स्थल 8341 एवं 9715 अन्य स्थल शामिल है।
         पुलिस महानिदेषक, फायर सर्विस ने बताया कि प्रदेष के सभी जनपदों में फायर सर्विस द्वारा कुल सैनेटाइज 24428 स्थलों के सम्बन्ध में कुछ प्रमुख जनपदों में से गौतमबुद्धनगर (नोएडा) मे 1248, लखनऊ में 1219, आगरा में 1150, सहारनपुर में 265, मुरादाबाद में 263, मेरठ में 587, कानपुर नगर में 131, फिरोजाबाद में 1101 एवं गाजियाबाद में 1352 स्थलों पर अब तक सैनेटाइजेषन का कार्य किया जा चुका है।  
          श्री विष्वकर्मा ने बताया कि अत्याधुनिक तकनीकी से सुसज्जित फायर बिग्रेड की 892 गाड़ियां निरंतर सैनेटाइजेषन कार्य मे लगी है। अग्निषमन विभाग द्वारा अपने कार्यों के अतिरिक्त प्रदेष में पहली बार यह कार्य किया जा रहा है जिसमें सभी हाॅट स्पाॅट चिन्हित स्थलों, अन्य संवेदनषील क्षेत्रों, बाजारों, आवासीय काॅलोनियों तथा अन्य स्थानों यथा मेडिकल काॅलेज, सरकारी अस्पताल, निजी अस्पताल, काॅरेनटाइन केन्द्रों, महत्वपूर्ण प्रतिष्ठानों आदि को प्राथमिकता दी जा रही है। सैनेटाइजेषन कार्य जिलाधिकारियों के मार्ग दर्षन में स्थानीय निकायों से समन्वय स्थापित करते हुये किया जा रहा है। उन्होने बताया कि इस कार्य में प्रयुक्त किये जाने वाले रसायन सोडियम हाइपो क्लोराइट की मात्रा निर्धारित मानकों के अनुकूल रखने तथा सैनेटाइजेषन के दौरान जरूरी सावधानियों का भी विषेष ध्यान रखा जा रहा है। यथा छिड़काव के दौरान यह भी प्रयास किया जा रहा है कि बिजली की वायरिंग एवं अन्य संवेदनषील वस्तुओं को छिड़काव से नुकसान न पहुंचने पाये। अग्निषमन विभाग के कर्मचारी इसके लिए पूर्ण निष्ठा, लगन एवं समर्पण की भावना से जुटे हुए है। उत्तर प्रदेष फायर सर्विस के प्रयासों से सैनेटाइजेषन कार्य को और अधिक सृदृढ़ एवं प्रभावी बनाने के हर संभव प्रयास किये जा रहे है ताकि कोविड-19 के प्रभाव को कम करने में सफलता मिल सकें। - दिनेष कुमार सिंह