ALL अंतरराष्ट्रीय राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश अन्य राज्य बिजनेस खेल सिनेमा रोजगार धर्म मेट्रोमोनियल
आवश्यकतानुसार अस्पतालों में अतिरिक्त चिकित्साकर्मियों की तैनाती की जाए - अवनीश अवस्थी
August 10, 2020 • AMIT VERMA • उत्तर प्रदेश


वेबवार्ता (न्यूज़ एजेंसी)/ अजय कुमार वर्मा 
लखनऊ 10 अगस्त। उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव सूचना एवं गृह अवनीश अवस्थी ने आज यहां लोक भवन में प्रेस प्रतिनिधियों को सम्बोधित करते हुए बताया कि मुख्यमंत्री ने कहा है कि समस्त कोविड अस्पतालों में गुणवत्तापरक चिकित्सा व्यवस्था बनाए रखने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा है कि आवश्यकतानुसार इन अस्पतालों में अतिरिक्त चिकित्साकर्मियों की तैनाती की जाए। उन्होंने सभी जनपदों में कोविड-19 के दृष्टिगत एल-2 व एल-3 कोविड अस्पतालों में बेड्स की संख्या बढ़ाने के निर्देश दिए है, उन्होंने यह भी निर्देश दिए हैं कि इन अस्पतालों में आई0सी0यू0 बेड्स की भी पर्याप्त व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। उन्होंने निर्देश दिए हैं कि जिन निजी मेडिकल काॅलेजों में कोविड चिकित्सालय स्थापित किए गए हैं, वहां की व्यवस्थाओं की माॅनिटरिंग के लिए चिकित्सा शिक्षा विभाग द्वारा एक नियंत्रक अधिकारी नामित किया जाए। उन्होंने कहा कि लखनऊ स्थित के0जी0एम0यू0, एस0जी0पी0जी0आई0 तथा राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान में भी कोविड बेड की संख्या बढ़ायी जाए। 
       श्री अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री ने कहा है कि जनपद कानपुर नगर तथा लखनऊ में कोविड-19 के संक्रमण को नियंत्रित करने तथा चिकित्सा व्यवस्थाओं को बेहतर बनाने के कार्यों में सम्बन्धित जिलाधिकारी को सहयोग प्रदान करने के उद्देश्य से दोनों जनपदों में विशेष सचिव स्तर के अधिकारी तैनात किए जाएं। इसके अलावा जनपद वाराणसी, प्रयागराज, बरेली, गोरखपुर तथा बहराइच में भी सम्बन्धित जिलाधिकारी को सहयोग प्रदान करने के लिए विशेष सचिव स्तर का एक अधिकारी तैनात किया जाए। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री जी ने कहा है कि कोविड-19 के संक्रमण की चेन को तोड़ने के लिए सभी प्रयास जारी रखे जाएं। कोरोना वायरस से लोगों को सुरक्षित रखने के लिए जनता को निरन्तर जागरूक किया जाए। टी0वी0, रेडियो, समाचार पत्रों, पब्लिक एड्रेस सिस्टम, पोस्टर बैनर आदि के माध्यम से लोगों को जानकारी प्रदान की जाए। मास्क के अनिवार्य उपयोग, दो गज की दूरी बनाए रखने के सम्बन्ध में आमजन को लगातार जागरूक किया जाए।
     श्री अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री ने कहा है कि यह सुनिश्चित किया जाए कि सभी अस्पतालों में फायर सेफ्टी के सभी मानक पूरे हों। इसके साथ ही, अस्पतालों में अन्य सुविधाएं भी तय मानकों के अनुरूप हों। उन्होंने कहा है कि यह सुनिश्चित किया जाए कि बाढ़ प्रभावित व जलमग्न इलाकों में लोगों को समय से राहत पहुंचाई जाए। बाढ़ प्रभावित इलाकों में आवश्यकतानुसार शरणालय स्थल भी तैयार किए जाएं। उन्होंने कहा है कि सभी जनपदों में खाद व कृषि से जुड़ी अन्य सामग्री की उपलब्धता बनी रहे। उन्होंने बताया कि अभी तक 300 सरकारी चिकित्सालयों तथा 259 निजी चिकित्सालयों के फायर सेफ्टी मानक की जाचं की गई है।
       श्री अवस्थी ने बताया कि पुलिस विभाग द्वारा की गयी कार्यवाही में अब तक धारा 188 के तहत 1,79,818 लोगों के विरूद्ध एफआईआर दर्ज की गई। प्रदेश में अब तक 1,20,01,557 वाहनांे की सघन चेकिंग में 67,070 वाहन सीज किये गये। चेकिंग अभियान के दौरान 60,56,68,329 रूपए का शमन शुल्क वसूल किया गया। आवश्यक सेवाओं हेतु कुल 3,47,883 वाहनों के परमिट जारी किये गये हैं। उन्होंने बताया कि कालाबाजारी एवं जमाखोरी करने वाले 1,062 लोगों के खिलाफ 785 एफआईआर दर्ज करते हुए 390 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। उन्होंने बताया कि प्रदेश सरकार फेक न्यूज पर कड़ाई से नजर रख रही है। फेक न्यूज के तहत अब तक 2173 मामलों का संज्ञान में लेते हुए साइबर सेल को सूचित किया गया है जो जांच के बाद कार्यवाही सुनिश्चित करेगा।  
      श्री अवस्थी ने बताया कि निर्माण कार्यों से जुडे़ 18.23 लाख श्रमिकों, नगरीय क्षेत्र के   8.91 लाख श्रमिकों तथा ग्रामीण क्षेत्रों के 6.74 लाख निराश्रित व्यक्तियों को रु0 1,000-1,000ध्- के आधार पर कुल 33.88 लाख लोगों को 338.78 करोड़ रुपये का भुगतान किया गया है। निर्माण कार्यों से जुडे़ 17.02 लाख श्रमिकों को द्वितीय किश्त का भी भुगतान किया जा चुका है। प्रदेश की पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्यूपमेन्ट एवं मास्क सहित कुल 97 इकाईयां क्रियाशील हैं। प्रदेश में 1127 फ्लोर मिल, 503 तेल मिल एवं 357 दाल मिल संचालित की जा रही है।
      श्री अवस्थी ने बताया कि प्रदेश के 10,350 हाॅट स्पाॅट के 1,105 थानान्तर्गत 14,35,385 मकानों के 85,60,636 लोगों को चिन्हित किया गया है। इन हाॅटस्पाॅट क्षेत्रों में कोरोना पाॅजिटिव लोगों की संख्या 41,490 है। इंस्टीट्यूशनल क्वारेंटाईन किये गये लोगों की संख्या 20,077 है। प्रदेश में हाॅटस्पाॅट वाले बस्तियों की अनुमानित जनसंख्या 84,88,997 के सापेक्ष 14,810 डोर स्टेप डिलिवरी मिल्क बूथ/मैन के द्वारा दूध वितरित किया गया है। डोर स्टेप डिलिवरी ‘फल, सब्जी आदि’ कुल 16,195 वाहन लगाये गये हैं। डोर स्टेप डिलिवरी वाले प्रोविजन स्टोर की संख्या 13,901 है। प्रोविजन स्टोर के माध्यम से डिलिवरी करने वालों की संख्या 14,022 है। हाॅट स्पाॅट क्षेत्रों में कुल 26 प्रचलित सामुदायिक किचन हैं। इन बस्तियों में 19,47,590 राशन कार्डो पर खाद्यान्न वितरण किया गया है। इसके अतिरिक्त सरकारी संस्थाओं/सामुदायिक किचन के माध्यम से 3018 नागरिकों को लाभान्वित तथा धार्मिक/स्वैच्छिक संस्थाओं के माध्यम से 717 नागरिकों को लाभान्वित किया गया है।
      अपर मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि प्रदेश में कोविड-19 टेस्टिंग का कार्य तेजी से किया जा रहा है। प्रदेश में कल एक दिन में 91,020 सैम्पल की जांच की गयी। इस प्रकार कोविड-19 की जांच में 32 लाख का आकड़ा पार करते हुए प्रदेश में अब तक 32,09,587 सैम्पल की जांच की गयी है। प्रदेश में विगत 24 घंटंे में कोरोना के 4,197 नये मामले आये है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में 47,878 कोरोना के मामले एक्टिव हैं, जिसमें 19,635 मरीज होम आइसोलेशन, 1509 लोग प्राइवेट हास्पिटल में तथा 196 मरीज सेमी पेड फैसिलिटी में तथा इसके अतिरिक्त शेष कोरोना संक्रमित एल-1, एल-2, एल-3 के कोरोना अस्पतालों में है। उन्होंने बताया कि अब तक कुल 32,774 मरीजों को होम आइसोलेशन में भेजा गया है, जिसमे से 13,139 मरीज उपचार के उपरांत स्वस्थ्य हो चुके है। प्रदेश में अब तक 76,724 मरीज पूरी तरह से उपचारित हो चुके हैं। उन्होंने बताया कि पूल टेस्ट के अन्तर्गत कल 3161 पूल की जांच की गयी, जिसमें 2984 पूल 5-5 सैम्पल के तथा 177 पूल 10-10 सैम्पल की जांच की गयी।
       श्री प्रसाद ने बताया कि प्रदेश में सर्विलांस की कार्यवाही के अन्तर्गत 2,33,726 सर्विलांस टीम द्वारा 1,65,11,267 घरों के 8,31,19,407 लोगों का सर्वेक्षण किया गया है। उन्होंने बताया कि आरोग्य सेतु ऐप पर अलर्ट जनरेट होने पर कन्ट्रोल रूम द्वारा फोन कर अब तक 7,83,503 लोगों से उनके स्वास्थ्य के बारे में जानकारी प्राप्त की गयी।-अमित शुक्ला/इंजेश सिंह/जयेन्द्र सिंह